क्या आप जानते हैं ऐसा क्यूँ और कैसे होता है?

By | May 18, 2016

1. आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है?
क्षोभ मंडल में उपस्थित धुल के कण प्रकाश को इधर- उधर बिखेर देते है परन्तु श्वेत प्रकाश के नीले रंग को परावर्तित कर देते हैं। इसी कारण आकाश का रंग नीला दिखाई देता है।

image

2. मछली को जल से बाहर निकालने पर वह क्यों मरजाती है?
मछली जलीय प्राणी है यह गिलो द्वारा श्वसन क्रिया करती है। गिल्स जल में घुसी आक्सीजन को अवशोषित करके CO2 बाहर निकालते है। मछली के थोड़ी देर के लिए जल से बाहर निकाल देने पर श्वसन क्रिया बंद हो जाती है अतः वह मर जाती है।

image

3. बिजली और टेलीफोन के खम्भों के बीच तार कसकर क्यों नहीं लगाये जाते हैं?
यह तो हम सभी जानते ही हैं कि बिजली और टेलीफोन के तार दो खम्भों के मध्य कसकर नहीं बांधें जाते हैं  क्योंकि यदि इन्हें कसकर लगाया जाये तो सर्दी के दिनों में ताप कम होने पर ये सिकुड़ कर टूट सकते हैं अतः तारों को ढीला छोड़ा जाता है।
4. ढलता हुआ सूरज हमें लाल क्यों नजर आता है?
जब सूरज ढल रहा होता है, तब रोशनी में मौजूद रंगों को हम तक पहुँचने के लिए काफी लम्बा रास्ता तय करना पड़ता है जो बहुत सघन होता है। नीले रंग के बिखर जाने के बाद सिर्फ लाल और नारंगी रंग ही बचते हैं जो हमारी आँखों तक सीधे पंहुचते हैं। और यही कारण है कि सूर्यास्त के समय आसमान में लाल रंग होता है और सूरज भी लाल नजर आता है।

image

5. पानी में रखी पेन्सिल मुड़ी हुई दिखाई क्यों देती है?
यदि पानी में कोई सीधी छड़ तिरछी डाली जाये तो उसके डूबे हुए भाग का प्रत्येक बिंदु अपवर्तन के कारण अपनी वास्तविक स्थिति के ऊपर उठा दिखाई देता है जिससे पेन्सिल मुड़ी हुई प्रतीत होती है।

image

6. एक व्यक्ति समान दुरी पर स्थित क्षैतिज एवं उर्ध्वाधर रेखाओं को एक साथ स्पष्ट क्यों नहीं देख पाता है?
एक व्यक्ति समान दुरी पर स्थित क्षैतिज एवं उर्ध्वाधर रेखाओं को एक साथ स्पष्ट नहीं देख पाता है क्योंकि वह दृष्टि वैषय रोग से ग्रसित है जो कि नेत्र कार्निया की गोलाई में अनियमितत्य के कारण उत्पन्न होता है। इस दोष के निवारण हेतु बेलनाकार लैन्स का प्रयोग किया जाता है।
7. कम्बल को डंडे से मारने पर धुल क्यों उड़तीं है?
जब हम कम्बल पर डंडा मारते है तो कम्बल आगे की ओर गति करता है, धुल के कण जड़त्व के कारण अपने स्थान पर रह जाते है इस प्रकार कम्बल एवं धुल के कण अलग-अलग हो जाते है तथा धुल नीचे की ओर गिरने से उड़ती हुई प्रतीत होती है।
8. पानी के पैंदे पर रखा सिक्का ऊपर उठा हुआ क्यों दिखाई देता है?
पानी के पैंदे पर रखे सिक्के का ऊपर उठा हुआ दिखाई देने का प्रमुख कारण प्रकाश का अपवर्तन है। बिंदु  पर रखे सिक्के से चलने वाली प्रकाश किरणें पानी की सतह से अपवर्तित होकर नेत्र में प्रवेश करती है। इन अपवर्तित किरणों को पीछे की ओर बढ़ाने पर जहाँ पर भी मिलेगी वहीँ हमें सिक्का दिखाई देगा अर्थात  से। पर दिखाई देगा।

Read Also-  इतिहास भाग 23

image

   
9. सड़क पर चलते समय केले के छिलके पर पाँव पड़ जाने पर व्यक्ति क्यों फिसल जाता है?
सड़क पर चलते समय व्यक्ति अपने पैरों से जमीन को पीछे की ओर धकेलता है। जिससे उसके पैर एवं जमीन के मध्य घर्षण बल भी कार्य करता है लेकिन पैर के नीचे केले के छिलके के आने पर पैर से केला पीछे जाता है और केले के चिकने होने के कारण घर्षण न होने के कारण व्यक्ति फिसल जाता है।

image

10. तारे टूटते हुए क्यो दिखाई देते है?
अन्तरिक्ष में अनेकों बड़ी-बड़ी रचनाएँ उपस्थित है जो पृथ्वी से अरबों किलोमीटर की दुरी पर स्थित है जिन्हें हम तारों के रूप में देखते है। जब वे बाहरी अन्तरिक्ष से वायुमंडल में प्रवेश करते है तो हवा की रगड़ से गर्म होकर चमकने लगते है ये उल्कायें भी कहलाती है अधिकांश उल्कायें वायुमंडल में पूरी तरह जल जाती हैं लेकिन कुछ बड़े उल्का पिण्ड पृथ्वी तक पहुँच जाते हैं उन्हें जब गिरता हुआ देखते है तो हम कहते है कि तारा टूट रहा है।

image

11. खटाई डालने पर दूध क्यों फट जाता है?
दूध में जल, वसा, कार्बोहाइड्रेड  तथा अकार्बनिक लवण होते हैं। केसीन नामक फास्फो प्रोटीन भी उपस्थित होता है। जब कोई अम्ल या खटाई दूध में मिलाई जाती है तो यह वसा तथा ंकेसीन आपस में मिलकर थक्का बना लेते है तथा यह पात्र की तली में बैठ जाते है। तथा जल, कार्बोहाइड्रेड व लवण ऊपर तैरते रहते हैं इस क्रिया को हम दूध का फटना कहते हैं।
12. दिन में तारे दिखाई क्यों नही देते हैं?
पृथ्वी के चारों ओर सघन वायुमंडल है जो कि सूर्य के प्रकाश के चारों ओर बिखेर देता है जिससे दिन में आकाश चमकदार हो जाता है तथा तारे दिखाई नहीं देते है जबकि चाँद पर जहाँ वायुमंडल नहीं है वहाँ दिन में भी तारे देखे जा सकते हैं।
13. महिलाओं एवं बच्चो की आवाज़ पुरुषों की अपेक्षा सुरीली क्यों होती है?
महिलाओं एवं बच्चों कि आवाज पुरुषों की तुलना में सुरीली होती है क्योकि महिलाओं एवं बच्चों के वाकयन्त्र की आवृति पुरुषों से अधिक होती है। ध्वनि की आवृति जितनी अधिक होगी, ध्वनि उतनी ही अधिक सुरीली होती है। यही कारण है कि महिलाओं की आवाज़ पुरुषों की तुलना में सुरीली होती है।
14. पक्षी हवा में क्यों उड़ पाते हैं?
पक्षियों में पंख होते हैं जो अग्रपाद के रूपांतरण  होते हैं।  इनकी हड्डियाँ खोखली तथा फेफड़ों में वायुकोष होते है जो शरीर को हल्का बनाते हैं। इस प्रकार शरीर के हल्केपन तथा पंखों की सहायता से पक्षी हवा में सरलता से उड़ पाते हैं।

Read Also-  इतिहास भाग 25

image

15. कई महिलाओं में पुरुषों की तरह ढाढ़ी आने लगती है। इसका क्या कारण है?
कई महिलाओं में पुरुषों की तरह ढाढ़ी आने का मुख्य कारण पुरुष जनन हार्मोन एस्ट्रोजन की अधिकता है जिसके कारण अंडजनन की क्रिया बाधित होने लगती है।
16. ट्यूबलाइट का बटन दबाते ही तेज प्रकाश कैसे उत्पन्न होता है?
ट्यूबलाइट में काँच की नली के दोनों सिरों पर टंगस्टन धातु के तंतु होते है तथा इसमें अल्प दाब पर पारे की वाष्प भरी रहती है। जैसे ही बटन दबाया जाता है टंगस्टन तन्तु से इलेक्ट्रोन उत्सर्जित होते है तथा पारे की वाष्प के अणुओं को आयनित कर देते है जिससे दीप्त विसर्जन होता है इनमें से कुछ प्रकाश तरंगों की तरंग दैधर्य अल्प होती है जिन्हें हम देख नहीं पाते है। अतः इन अदृश्य प्रकाश तरंगों को दृश्य प्रकाश तरंगों में परिवर्तित करने के लिये नली के भीतर की सतह पर प्रतिदीप्त पदार्थ पोत दिया जाता है जो अदृश्य प्रकाश को दृश्य प्रकाश में परिवर्तित करता है इससे ट्यूब लाइट से अधिक प्रकाश प्राप्त होता है।
17. आतिशबाजी का रॉकेट ऊँचाई पर जाकर पुन: पृथ्वी पर आ जाता है किन्तु रॉकेट पुन: पृथ्वी की ओर लौटकर क्यों नहीं आता है?
रॉकेट पलायन वेग से प्रक्षेपित होता है अतः यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र को पार कर जाता है जिससे उस पर पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल कार्य नहीं करता तथा वह पुनः पृथ्वी की ओर लौट कर आता है।

image

18. कैसे रंग देता है पान, मुख को?
पान बनाते समय कत्था व चुना लगाया जाता है। इस कत्थे में एक पदार्थ होता है जिसे कतेचू कहते है। यह कतेचू चूने से बने क्षारीय माध्यम में आक्सीजन से क्रिया करके कतेचूटैनिक अम्ल बनाता है। यह कटैचू टैनिक अम्ल लाल रंग का यौगिक होता है जो मुख को रंग देता है।

image

19. नान स्टिक बर्तनों में खाना क्यों नहीं चिपकता?
नान स्टिक बर्तनों में टेफ्लान की परत चढ़ी होती है। टेफ्लान फ़्लोरिनयुक्त पालीमर है जिसका रासायनिक नाम पोलिट्रेटा फ़्लुरोइथिलीन है। यह उष्मा के प्रभावों के प्रति अत्यन्त प्रतिरोधी होता है इसका घर्षण गुणांक भी बहुत कम होता है तथा इसमें एन्टीस्टिक गुण भी होता है अतः इसमें खाना पकाने पर खाना नहीं चिपकता।

image

20. कैसे भर जाते हैं जख्म?
जैसे ही त्वजा पर कोई कट लगता है, कटी हुई रक्त वाहिनी से रक्त बाहर आने लगता है तथा रक्त में मौजूद फिबरिन नामक प्रोटीन लम्बे तन्तु बनाने लगती है। जो आपस में मिलकर थक्का बुन लेते है। थक्का घाव को ढककर रक्त प्रवाह को बंद कर देता है। रक्त का थक्का बनने के साथ-साथ श्वेत रुधिर कणिकाएं भी घाव में आ जाती है तथा अन्दर प्रवेश करने वाले जीवाणु पर आक्रमण कर उन्हें नष्ट कर देती है। थक्के के नीचे कट के किनारों पर कोशिकायें शीघ्रता से विभाजित होने लगती है तथा कटके ऊपर आवरण बनाने लगती है। चार पाँच दिन में यह आवरण मोटा होकर त्वजा की नई परत बना देता है तथा घाव भरने की क्रिया पूरा होने के बाद एक शुष्क पपड़ी उतर जाती है।
21. वर्षा ऋतु में कपड़े देर से क्यों सूखते हैं?
वर्षा ऋतु में कपड़े देर से सूखते हैं क्योंकि वातावरण में नमी की मात्रा अधिक होने से वाष्पीकरण की दर धीमी हो जाती है जिससे कपड़े देर से सूखते हैं।
22. गर्म हवा ऊपर क्यों उठती है?
गर्म हवा का घनत्व कम होने से हल्की होती है। हल्की होने से वह ऊपर उठती है।
23. त्वचा द्वारा हमें स्पर्श का ज्ञान कैसे होता है?
त्वजा में संवेदी कोशिकायें होती है, जो तंत्रिकाओं से जुडी होती है। विभिन्न प्रकार के उद्दीपनों को ग्रहण करने के लिये विभिन्न प्रकार की संवेदी कोशिकायें होती है। स्पर्श की संवेदी कोशिकाओं द्वारा ग्रहण की गई सूचना तंत्रिकाओं द्वारा मस्तिष्क को पहुँचाती है तथा हमें स्पर्श का ज्ञान होता है।
24. समुद्र नीला क्यों दिखाई देता है?
समुद्र के पानी का रंग भी वास्तव में उपलब्ध  पानी के रंग की तरह कोई रंग नहीं होता फिर भी यह नीला दिखाई देता है क्योंकि जब सूर्य के प्रकाश की किरणें समुद्र पर गिरती है, विशेषकर उस जगह पर जहाँ इसका जल गहरा और स्वच्छ होता है तो वहाँ से परावर्तित होने के बाद इस प्रकाश में मौजूद सात रंगों में से केवल नीला रंग ही हमारी आँखों तक पहुँचता है यही कारण है कि समुद्र हमें नीला दिखाई देता है।
25. मोमबत्ती जब जलती है तो मोम पिघल कर बहने क्यों लगता है?
जब मोमबत्ती को जलाया जाता है तो उष्मा पाकर मोम के अणु दूर-दूर हो जाते है क्योंकि उष्मा अणुओ के मध्य लगने वाले आकर्षण बल को कमजोर कर देता है जिससे अणु गति करने के लिये स्वतन्त्र हो जाते है तथा वह द्रव अवस्था में आ जाने से पिघलकर बहने लगती है।

Read Also-  इतिहास भाग 5 History

image