भौतिकी की राशियां-अदिश राशि, सदिश राशि, मूल मात्रक, व्युत्पन्न मात्रक।

राशि (Quantity): जिसे संख्या के रूप में प्रकट किया जा सके, उसे राशि कहते हैं जैसे जनसंख्या, आयु, वस्तु का भार, मेज की लंबाई आदि।

भौतिक राशियां (Physical Quantities): भौतिकी के नियमों को जिन्हें राशियों के पदों में व्यक्त किया जाता है उन्हें भौतिक राशियां कहते हैं। जैसे- वस्तु का द्रव्यमान, लंबाई, बल, चाल, दूरी, विद्युत धारा, घनत्व आदि।

भौतिक राशियां दो प्रकार की होती हैं -अदिश राशि तथा सदिश राशि।

अदिश राशि- वैसी भौतिक राशियां जिनमें केवल परिणाम होता है दिशा नहीं होती, उन्हें अदिश राशि कहा जाता है। जैसे द्रव्यमान, घनत्व, तापमान, विद्युत धारा, समय, चाल, आयतन, कार्य आदि।

सदिश राशि- वैसी भौतिक राशियां जिनमें परिणाम के साथ-साथ दिशा भी होती है और जो योग के निश्चित नियमों के अनुसार जोड़ी जाती हैं उन्हें सदिश राशि कहा जाता है। जैसे वेग, विस्थापन, बल, रेखीय संवेग, कोणीय विस्थापन, कोणीय वेग, बल आघूर्ण, चुंबकीय क्षेत्र प्रेरण, चुंबकीय क्षेत्र तीव्रता, चुंबकीय तीव्रता, चुंबकीय आघूर्ण, विद्युत तीव्रता, विद्युत धारा घनत्व, विद्युत बल आघूर्ण, विद्युत ध्रुवण, चाल प्रवणता, ताप प्रवणता आदि।

मापन के मात्रक/ इकाई- किसी राशि के मापन के निर्देश मानक को मात्रक कहते हैं। अर्थात किसी भी राशि की माप करने के लिए उसी राशि के एक निश्चित परिमाण को मानक मान लिया जाता है और उसे कोई नाम दे दिया जाता है। इसी को उस राशि का मात्रक कहते हैं किसी दी हुई राशि कि उसके मात्रक से तुलना करने की क्रिया को मापन कहते हैं।

Also Read-  भारत का भूगोल

मात्रक दो प्रकार के होते हैं 1. मूल मात्रक 2. व्युत्पन्न मात्रक।

मूल मात्रक- किसी भौतिक राशि को व्यक्त करने के लिए कुछ ऐसे मानकों का प्रयोग किया जाता है जो अन्य मानको से स्वतंत्र होते हैं इन्हें मूल मात्रक कहते हैं। जैसे लंबाई, समय और द्रव्यमान के मात्रक क्रमशः मीटर, सेकंड एवं किलोग्राम मूल इकाई है ।

व्युत्पन्न मात्रक- किसी भौतिक राशि को जब दो या दो से अधिक मूल इकाइयों में व्यक्त किया जाता है तो उसे व्युत्पन्न मात्रक कहते हैं। जैसे बल, दाब, कार्य एवं विभव के लिए क्रमशः न्यूटन, पास्कल, जूल एवं वोल्ट व्युत्पन्न मात्रक है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *