chartered accountant kaise bane चार्टर्ड अकाउंटेंट सी.ए. कैसे बने

CA Kaise Bane सी.ए. कैसे बने, जानिए सी.ए. बनने की पूरी प्रक्रिया. (चार्टर्ड अकाउंटेंट ) Chartered Accountant सी.ए. बनने के लिए कड़ी मेहनत, धैर्य व् लगन की जरूरत होती है। यह एक उच्च स्तर का कोर्स है। यह कोर्स एक ही संस्थान ICAI (Institute of Chartered Accountant of India) द्वारा कराया जाता है। इसके लिए कोई भी वीश्विद्यालय नही है। यह कोर्स वाणिज्य छेत्र का महत्वपूर्ण कोर्स है, पर इस कोर्स को आर्ट और साइंस स्ट्रीम वाले भी कर सकते है। यह कोर्स ICAI में रजिस्ट्रेशन करा कर स्वयं द्वारा या किसी भी प्राइवेट कोचिंग द्वारा किया जा सकता है। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पोर्टल www.icaionlineregistation.org. में जाकर रेजिस्ट्रेशन कर सकते है।

सी.ए. कैसे बने, जानिए सी.ए. बनने की पूरी प्रक्रिया

CA बनने के लिए बहुत लंबे प्रोसेस से गुजरना पड़ता है। यह कोर्स 5 साल का है। CA बनने के लिए CPT entrance exam, IPCC , Training, Final Course, यह सारे लेवल पास करने के बाद CA बन पाते है।

Registration fees

CPT. – 6000/-. Exams fees- 500/-

IPCC – 9000/-. Exam fees – 1600/-

(Both Group)

ICITSS – 7000/-
Practical Training – 11000/-

AICITSS – 7000/-

Final fess- 10000/- Exam fees – 2250/- (Both Group)

यह फीस ICAI में कोर्स करने के लिए है। अगर आप किसी कोचिंग से पढ़ रहे है तो वहाँ की फीस आप को अलग से देनी होगी।

सी.ए. बनने की पूरी प्रक्रिया

इस कोर्स को दो तरह से किया जा सकता है:-

1. 12 वीं के बाद इस कोर्स को करने के लिए पहले CPT entrance exam पास करना होता है। उसके बाद आगे सी.ए. की पढ़ाई कर सकते है।

2. ग्रेजुएशन के बाद भी इस कोर्स को किया जा सकता है। स्नातक के बाद शुरू करने पर commerce में 55% अंक एवं अन्य ( Arts, Science) में 60% अंक होना अनिवार्य है। अगर 55% एवं 60% से कम अंक है तो पहले CPT entrance exam पास करना होगा।

इस कोर्स को हिंदी एवं अंग्रेजी दोनो माध्यम से किया जा सकता है।

how to became CA

पहला चरण

CPT (Common Proficiency Test) entrance exam की जानकारी.

CPT entrance exam देने के लिए पहले ICAI संस्था में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। संस्था द्वारा स्वीकृति पत्र एवं किताबें डाक द्वारा भेजा जाता है। संस्था द्वारा यह exam June and December माह में conduct किया जाता है। यह रजिस्ट्रेशन 3 साल के लिए Valid रहता है। CPT exam देने के लिए एग्जाम फॉर्म अलग से भरना पड़ता है।Exams fees- 500/- है।

Also Read-  CGPSC 2019 Syllabus विस्तृत पाठ्यक्रम हिन्दी मे CGPSC Pre/Mains

CPT exam Pattern or syllbus

इस परीक्षा में वैकल्पिक प्रश्न पुछा जाता है। यह परीक्षा दो पालियों में आयोजित की जाती है। पहली पाली 10:30 am से 12:30 pm और दूसरी पाली 2:00 pm से 4:00 pm बजे तक आयोजित की जाती है। इस परीक्षा में मुख्यतः 4 भाग है। प्रत्येक पाली में दो भाग को लिया जाता है। प्रत्येक विषय में 40% अंक और कुल 50% अंको के साथ पास होना अनिवार्य है। यह परीक्षा कुल 200 अंको की होती है। प्रत्येक सही उत्तर देने पर 1 अंक दिया जाता है और गलत उत्तर देने पर 0.25 अंक काटा जाता है।

CPT Exam Sechdule & CPT SYLLbUS
Subject Marks

पहला भाग- (10:30 am से 12:30 pm)

पेपर 1. Principles and Practices of Accounting (100 Marks)

पेपर 2: Business Law & Business Correspondence and Reporting (100 Marks)

सेक्शन A: Business Law (60 Marks)

सेक्शन B: Business Correspondence and Reporting (40 Marks)

दूसरा भाग- (2:00 pm से 4:00 pm)

पेपर 3*: Business Mathematics and Logical Reasoning &Statistics (100 Marks)

पार्ट I: Business Mathematics and Logical Reasoning (60 Marks)

पार्ट II: Statistics (40 Marks)

पेपर 4*: Business Economics & Business and Commercial Knowledge (100 Marks)

पार्ट I: Business Economics (60 Marks)

पार्ट II: Business and Commercial Knowledge (40 Marks)

CPT SYLLbUS

1. Fundamental of accounting-
• Theoretical framework
• Accounting process
• Bank Reconciliation statement
• Depreciation accounting
• preparation of final accounts for Sole properties

• Accounting for Special transection
• Partnership Accounts
• Introduction to Company Accounts

Mercantile Law –
The Indian Contract Act, 1872:
An overview of Sections 1 to 75 covering the general nature of contract, consideration, other essential elements of a valid contract, performance of contract and breach of contract

The Sale of Goods Act, 1930: Formation of the contract of sale – Conditions and Warranties – Transfer of ownership and delivery of goods – Unpaid seller and his rights.

The Indian Partnership Act, 1932: General Nature of Partnership – Rights and duties of partners – Registration and dissolution of a firm.

General Economics –
Theory of Production and CostPrice Determination in Different Markets
Indian Economic Development
Introduction to Micro Economics
Money and Banking
Theory of Demand and Supply
Indian Economy – A Profile
Select Aspects of Indian Economy
Economic Reforms in India.

Quantitative Aptitude –
Ratio and proportion, Indices, Logarithms,Simple and Compound Interest including annuity, Inequalities, Basic concepts of Differential and Integral Calculus
Statistical description of data
Measures of Central Tendency and Dispersion,Equations,Basic concepts of Permutations and Combinations
Sequence and Series – Arithmetic and geometric progressions Sets, Functions and Relations, Limits and Continuity,Theoretical Distributions
Sampling Theory, Correlation and Regression, Index Numbers.

Also Read-  UP constable 2018 syllabus UPP Constable Exam Pattern

दूसरा चरण

IPCC (इटीग्रेटेड प्रोफेशनल कंपीटेंस कोर्स)

IPCC (इटीग्रेटेड प्रोफेशनल कंपीटेंस कोर्स) यह CA बनने का दूसरा चरण है। CPT entrance exam पास करने के बाद IPCC में फिर से रजिस्ट्रेशन करना होता है। इस परीक्षा को दो ग्रुप में बांटा गया है। प्रत्येक विषय में 40% और कुल 50% अंको से पास होना अनिवार्य है। यह परीक्षा मई और नवम्बर में होती है। इस परीक्षा में चाहें तो दोनों ग्रुप एक साथ भी कर सकते है या एक-एक करके भी कर सकते है।इसमें आपको टोटल 8 पेपर देने होते ।

ग्रुप I

पेपर 1: Accounting (100 Marks)

पेपर 2: Corporate Laws & Other Laws (100 Marks)

  • पार्ट I: Corporate Laws (60 Marks)
  • पार्ट II: Other Laws (40 Marks)

पेपर 3: Cost and Management Accounting (100 Marks)

पेपर 4: Taxation (100 Marks)

  • सेक्शन A: Income Tax Law (60 Marks)
  • सेक्शन B: Indirect Tax Laws (40 Marks)

ग्रुप II

पेपर 5: Advanced Accounting (100 Marks)

पेपर 6: Auditing and Assurance (100 Marks)

पेपर 7: Enterprise Information System & Strategic Management (100 Marks)

  • सेक्शन A: Enterprise Information System (50 Marks)
  • सेक्शन B: Strategic Management (50 Marks)

पेपर 8: Financial Management & Economics for Finance (100 Marks)

सेक्शन A: Financial Management
(60 Marks)

  • सेक्शन B: Economics for Finance
    (40 Marks)

तीसरा चरण

ICITSS (Integrated Course on Information Technology and Soft Skills) यह CA बनने का तीसरा चरण है। पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होता है। यह कोर्स Information Technology (IT) और Orientation Course (OC) का कोम्बीनेशन है। जिसे एक महीने में पूरा करना होता है।

चौथा चरण

Practical Traning

Practical Training जिसे हम Articalship भी कहते है।Articalship CA बनने का चौथा चरण है। ICITSS की परीक्षा को पास करने के बाद ही practical Training किया जा सकता है। यह कोर्स 3 साल का होता है। Practical training से पहले IPCC के सारे सबजेक्ट क्लियर होने चाहिए। ट्रेनिंग किसी भी छोटे या बड़े के सी.ए. फर्म से किया जा सकता है।

पांचवा चरण

AICITSS (Advanced Integrated Course on Information Technology and Soft Skills)

यह कोर्स बहुत छोटे पीरियड का है। इस कोर्स को फाइनल एग्जाम के लिए अप्लाई करने से पहले क्लियर करना होता है। इसको करने के लिए भी एक महीने का समय रहता है। इसके बाद ही फाइनल कोर्स के लिए रजिस्टर किया जा सकता है।

Also Read-  Rajasthan Patwari Syllabus 2018 RSMSSB Patwari Syllabus 2018 Rajasthan Patwari Exam Pattern

क्लियर करना होता है। इसको करने के लिए भी एक महीने का समय रहता है। इसके बाद ही फाइनल कोर्स के लिए रजिस्टर किया जा सकता है।

छठवाँ चरण

Final Course

यह CA बनने का अंतिम चरण है। इसके लिए भी पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना होता है। इस परीक्षा में भी दो ग्रुप है। यह फाइनल परीक्षा है और बहुत महत्वपूर्ण व कठीन परीक्षा है। इसको करने के बाद सी.ए. बन जाते है।

GROUP – I
पेपर – 1 Advanced Accounting
पेपर — 2
Management Accounting & Financial Analysis
पेपर – 3
Advanced Auditing
पेपर – 4
Corporate Laws and Secretarial Practice CA Kaise Bane

GROUP – II
पेपर – 5 Cost Management

पेपर – 6 Management Information and Control Systems

पेपर – 7 Direct Taxes
पेपर – 8 Indirect Taxes

NEW SYLLABUS

GROUP I

FINANCIAL REPORTING

STRATEGIC FINANCIAL MANAGEMENT

ADVANCED AUDITING AND PROFESSIONAL ETHICS

CORPORATE AND ALLIED LAWS

GROUP II

ADVANCED MANAGEMENT ACCOUNTING

INFORMATION SYSTEMS CONTROL AND AUDIT

DIRECT TAX LAWS

INDIRECT TAX LAWS

इस परीक्षा को पास करने के बाद ICAI संस्था में जाकर registered होना रहता है, तब आप सी.ए. कहलाते है। Registered होने के बाद Multi National Companies, और other Companies से प्लेसमेंट ऑफर आती है।

जॉब Job

CA बनने के बाद जॉब करने के दो ऑप्शन है. पहला किसी भी मल्टीनेशनल कम्पनीज में आसानी से जॉब कर सकते है। दूसरा आप अपना खुद का ऑफ़ीस भी शुरु कर सकते है। Top Recruiters जिसके नाम नीचे दिए है:-

Banks
Auditing Firms
Finance Companies
Mutual Funds
Portfolio Management Companies
Investment Houses
Stock Broking Firms
Legal firms
Legal house
Patent Firms
Attorneys
Trade Mark
Copyright Registers

Salary

सेलरी शुरू में फ्रेशर्स की सैलरी 30000/- से 50000/- तक होती है। फिर जैसे- जैसे एक्सपीरियंस बढ़ता है । सैलरी भी बढ़ती है। आपके एक्सपीरियंस के ऊपर है सैलरी depend करती है। Minimum 300000/- से 800000/- तक और depend करता है कि आप किस जगह जॉब करते या आपका खुद का आफिस है। CA Kaise Bane

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *