Computer ki memory कंप्यूटर की मेमोरी

By | May 13, 2016

कम्प्यूटर की मेमोरी किसी कम्प्यूटर के उन अवयव, साधनों तथा रिकार्ड करने वाले माध्यम को कहा जाता है, जिनमे प्रोसेसिंग में उपयोग किये जाने वाले अंकीय डेटा (digital data) को किसी समय तक सुरक्षित रखा जाता है। कम्प्यूटर मेमोरी आधुनिक कम्प्यूटरों के मूल कार्यों में से एक अर्थात सुचना भंडारण की सुविधा प्रदान करती है।
मेमोरी कंप्यूटर का वह भाग है जो डाटा तथा निर्देशों को संगृहीत करती है | कंप्यूटर की मेमोरी आधुनिक कंप्यूटर के मूल कार्यों में से एक अर्थात सुचना भंडारण की सुविधा प्रदान करती है | यह कंप्यूटर के सीपीयू का एक भाग होती है और इससे मिलकर सम्पूर्ण कंप्यूटर बनता है |
मेमोरी की इकाइयां(UNITS OF MEMORY)-
1 बिट = बाइनरी डिजिट
8 बिट्स = 1 बाइट = 2 निबल
1024 बाइट्स = 1 किलोबाइट (1KB)
1024 किलोबाइट = 1 मेगाबाइट (1MB)
1024 मेगाबाइट = 1 गीगाबाइट (1GB)
1024 गीगाबाइट = 1 टेराबाइट (1TB)
1024 टेराबाइट = 1 पेटबाइट (1PB)
1024 पेटबाइट = 1 एक्साबाइट (1EB)
1024 एक्साबाइट = 1 जेटाबाइट (1ZB)
1024 जेटाबाइट = 1 योटाबाइट (1YB)
1024 योटाबाइट = 1 ब्रोंटोबाइट (1Bronto Bite)
1024 ब्रोंटोबाइट = 1 जिओपबाइट ( 1 Geop Bite)
मेमोरी यूनिट के दो भाग होते हैं –
(1)प्राथमिक मेमोरी PRIMARY MEMORY-
इसे आंतरिक या मुख्य मेमोरी भी कहते हैं | यह सीपीयू  से सीधे जुड़ा रहता है | इसका अर्थ है की CPU इसमें स्टोर किये गये निर्देशों को लगातार पढ़ता रहता है और इनका पालन करता है |
प्राइमरी मेमोरी दो प्रकार की होती है _
1 RAM रैंडम एक्सेस मेमोरी (RANDOM ACCESS MEMORY)
image

Read Also-  Computer short name hindi. संक्षिप्त नाम कम्प्यूटर में

यह मेमोरी एक चिप पर होती है , जो मैटल-आक्साइड सेमीकंडक्टर से बनी होती है | हम इस मेमोरी के किसी भी लोकेशन को चुनकर उसका सीधे ही किसी डाटा को स्टोर करने या उनमे से डाटा पढने के लिए कर सकते हैं | रैम में वे प्रोग्राम और डाटा रखे जाते हैं , जिनको सीपीयू खोज सके और वहां से प्राप्त कर सके | इस मेमोरी को भी कई भागों में बांटा जाता है , ताकि उसमे रखी गई सुचना को व्यवस्थित किया जा सके और उन्हें पाया जा सके | ऐसे प्रत्येक भाग का एक निश्चित पता होता है | किसी डाटा बस की सहायता से हम रैम से किसी सुचना को निकाल सकते हैं या  इसमें कोई सुचना स्टोर कर सकते हैं |
रैम दो प्रकार की होती है
(a) डायनैमिक रैम (dynamic ram)
इसे डी रैम भी कहते हैं। डी रैम चिप के स्टोरेज सेल परिपथ में एक ट्रांजिस्टर लगा होता है जो ठीक उसी प्रकार कार्य करता है जिस प्रकार कोई ओन/ ऑफ़ स्विच कार्य करता है और इसमें एक कैपेसिटर भी लगा होता है जो एक विद्युत चार्ज को स्टोर कर सकता है। इसे बार बार रिफ्रेश किया जाता है जिसके कारण इसकी गति धीमी होती है। इस प्रकार डायनेमिक रैम चिप ऐसी मेमोरी की सुविधा देता है जिसकी सुचना बिजली बंद करने पर नष्ट हो जाती है।
(2) स्टैटिक रैम(Static ram)-
इसे एस रैम(SRAM) भी कहते हैं। इसमें डेटा तब तक संचित जब तक विद्युत सप्लाई ऑन रहती है। स्टैटिक रैम में स्टोरेज सेल परिपथ में एक से अधिक ट्रांजिस्टर लगे रहते हैं। डायनेमिक रैम की तुलना में स्टैटिक रैम महंगा होता है।
2 ROM रीड ओनली मेमोरी (READ ONLY MEMORY)-
यह वह मेमोरी है जिसमे डाटा पहले से भरा जा चूका होता है और जिसे हम केवल पढ़ सकते हैं | हम उसे हटा या बदल नहीं सकते | वास्तव में रोम चिप बनाते समय ही उसमे कुछ आवशयक प्रोग्राम और डाटा लिख दिए जाते हैं जो स्थायी होते हैं | जब कंप्यूटर की बिजली बंद कर दी जाती है , तब भी रोम चिप में भरी हुई सूचनाएं बनी रहती हैं |
रोम के निम्नलिखित प्रकार हैं-
(a) प्रोम(PROM)-
यह प्रोग्रामेबल रीड ओनली मेमोरी (programmable read only memory) का संक्षिप्त नाम है। यह एक ऐसी मेमोरी होती है जिसमे एक प्रोग्राम की सहायता से सुचना को स्थायी रूप से स्टोर किया जाता है।
(b) ईप्रोम(EPROM)
यह इरेजेबल प्रोग्रामेबल रीड ओनली मेमोरी(Erasable Programmable read only memory) का संक्षिप्त रूप है। यह एक ऐसी मेमोरी है जिसको फिर से प्रोग्राम किया जा सकता है।
(c) ईईप्रोम(EEPROM)
यह इलेक्ट्रोनिकली इरेजेबल प्रोग्रामबल रीड ओनली मेमोरी का संक्षिप्त नाम है। यह एक ऐसी इप्रोम है जिसके प्रोग्राम को रीसेट करने के लिए सर्किट हटाने या निर्माता को भेजने की जरूरत नहीं रहती एक विशेष सॉफ्टवेयर की मदद से अपने ही कंप्यूटर में re-program कर सकते हैं।
(2)सेकेंडरी मेमोरी SECONDARY MEMORY-
इस प्रकार की मेमोरी सीपीयू लगी रहती है इसलिए इसे बाह्य(external) मेमोरी भी कहा जाता है | कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी बहुत महँगी होने या बिजली बंद कर देने पर उसमे रखी अधिकतर सूचनाएं नष्ट हो जाने की इसी कमी के कारण सेकेंडरी मेमोरी की उपयोगिता बढ़ जाती है |
इसके उदारहण है सीडी ड्राइव , फ्लैश ड्राइव , यूएसबी मेमोरी आदि |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *