Hindi bhasha ka vikas हिंदी भाषा का विकास

By | July 13, 2016

वर्गीकरण
हिंदी विश्व की लगभग 3,000 भाषाओं में से एक है।
आकृति या रूप के आधार पर हिंदी वियोगात्मक या विश्लिष्ट भाषा है।
भाषा–परिवार के आधार पर हिंदी भारोपीय परिवार की भाषा है।
भारत में 4 भाषा–परिवार— भारोपीय, द्रविड़, आस्ट्रिक व चीनी–तिब्बती मिलते हैं। भारत में बोलने वालों के प्रतिशत के आधार पर भारोपीय परिवार सबसे बड़ा भाषा परिवार है।
हिंदी भारोपीय/ भारत यूरोपीय के भारतीय– ईरानी शाखा के भारतीय आर्य (Indo–Aryan) उपशाखा से विकसित एक भाषा है।
भारतीय आर्यभाषा को तीन कालों में विभक्त किया जाता है।
भारत में 4 भाषा–परिवार
भाषा-परिवार भारत में बोलने वालों का %
भारोपीय 73%
द्रविड़ 25%
आस्ट्रिक 1.3%
चीनी–तिब्बती 0.7%
भारतीय आर्यभाषा को तीन काल
नाम =प्रयोग काल= उदाहरण
1.प्राचीन भारतीय आर्यभाषा =1500 ई. पू.– 500 ई. पू.= वैदिक संस्कृत व लौकिक संस्कृत
2.मध्यकालीन भारतीय आर्यभाषा= 500 ई. पू.– 1000 ई.= पालि, प्राकृत, अपभ्रंश
3.आधुनिक भारतीय आर्यभाषा= 1000 ई.– अब तक =हिन्दी और हिन्दीतर भाषाएँ – बांग्ला, उड़िया, मराठी,
सिंधी, असमिया, गुजराती, पंजाबी आदि।
1.प्राचीन भारतीय आर्यभाषा
नाम= प्रयोग काल= अन्य नाम
वैदिक संस्कृत =1500 ई. पू.– 1000 ई. पू.= छान्दस् (यास्क, पाणिनि)
लौकिक संस्कृत =1000 ई. पू.- 500 ई. पू.= संस्कृत भाषा (पाणिनि)
2.मध्यकालीन भारतीय आर्यभाषा
नाम =प्रयोग काल =विशेष टिप्पणी
प्रथम प्राकृत काल– पालि= 500 ई. =पू.– 1 ई. भारत की प्रथम देश भाषा, भगवान बुद्ध के सारे उपदेश पालि में ही हैं।
द्वितीय प्राकृत काल– प्राकृत =1 ई.– 500 ई.= भगवान महावीर के सारे उपदेश प्राकृत में ही हैं।
तृतीय प्राकृत काल– अपभ्रंश अवहट्ट= 500 ई.– 1000 ई.
900 ई. – 1100 ई.=

Read Also-  Veergatha Kaal वीरगाथाकाल की प्रमुख विशेषताए

संक्रमणकालीन/संक्रान्तिकालीन भाषा
3.आधुनिक भारतीय आर्यभाषा (हिन्दी)
नाम प्रयोग काल
प्राचीन हिन्दी 1100 ई. – 1400 ई.
मध्यकालीन हिन्दी 1400 ई. – 1850 ई.
आधुनिक हिन्दी 1850 ई. – अब तक

हिंदी की आदि जननी संस्कृत है। संस्कृत पालि, प्राकृत भाषा से होती हुई अपभ्रंश तक पहुँचती है। फिर अपभ्रंश, अवहट्ट से गुजरती हुई प्राचीन/प्रारम्भिक हिंदी का रूप लेती है। विशुद्धतः, हिंदी भाषा के इतिहास का आरम्भ अपभ्रंश से माना जाता है।

हिंदी का विकास क्रम- संस्कृत→ पालि→ प्राकृत→ अपभ्रंश→ अवहट्ट→ प्राचीन / प्रारम्भिक हिंदी
अपभ्रंश

अपभ्रंश भाषा का विकास 500 ई. से लेकर 1000 ई. के मध्य हुआ और इसमें साहित्य का आरम्भ 8वीं सदी ई. (स्वयंभू कवि) से हुआ, जो 13वीं सदी तक जारी रहा। अपभ्रंश (अप+भ्रंश+घञ्) शब्द का यों तो शाब्दिक अर्थ है ‘पतन’, किन्तु अपभ्रंश साहित्य से अभीष्ट है— प्राकृत भाषा से विकसित भाषा विशेष का साहित्य।

Read Also-  Kedaarnaath singh ka jeevan parichay केदारनाथ सिंह का जीवन परिचय

प्रमुख रचनाकार-
स्वयंभू— अपभ्रंश का वाल्मीकि (‘पउम चरिउ’ अर्थात् राम काव्य), धनपाल (‘भविस्सयत कहा’–अपभ्रंश का पहला प्रबन्ध काव्य), पुष्पदंत (‘महापुराण’, ‘जसहर चरिउ’), सरहपा, कण्हपा आदि सिद्धों की रचनाएँ (‘चरिया पद’, ‘दोहाकोशी’) आदि।

अवहट्ट

अवहट्ट ‘अपभ्रंष्ट’ शब्द का विकृत रूप है। इसे ‘अपभ्रंश का अपभ्रंश’ या ‘परवर्ती अपभ्रंश’ कह सकते हैं। अवहट्ट अपभ्रंश और आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं के बीच की संक्रमणकालीन/संक्रांतिकालीन भाषा है। इसका कालखंड 900 ई. से 1100 ई. तक निर्धारित किया जाता है। वैसे साहित्य में इसका प्रयोग 14वीं सदी तक होता रहा है। अब्दुर रहमान, दामोदर पंडित, ज्योतिरीश्वर ठाकुर, विद्यापति आदि रचनाकारों ने अपनी भाषा को ‘अवहट्ट’ या ‘अवहट्ठ’ कहा है। विद्यापति प्राकृत की तुलना में अपनी भाषा को मधुरतर बताते हैं। देश की भाषा सब लोगों के लिए मीठी है। इसे अवहट्ठा कहा जाता है।[2]

प्रमुख रचनाकार-
अद्दहमाण/अब्दुर रहमान (‘संनेह रासय’/’संदेश रासक’), दामोदर पंडित (‘उक्ति–व्यक्ति–प्रकरण’), ज्योतिरीश्वर ठाकुर (‘वर्ण रत्नाकर’), विद्यापति (‘कीर्तिलता’) आदि।

प्राचीन हिंदी

अपभ्रंश से आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं का विकास
शौरसेनी पश्चिमी हिंदी
राजस्थानी
गुजराती
अर्द्धमागधी पूर्वी हिंदी
मागधी बिहारी
उड़िया
बांग्ला
असमिया
खस पहाड़ी (शौरसेनी से प्रभावित)
ब्राचड़ पंजाबी(शौरसेनी से प्रभावित)
सिंधी
महाराष्ट्री मराठी
मध्यदेशीय भाषा परम्परा की विशिष्ट उत्तराधिकारिणी होने के कारण हिंदी का स्थान आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं में सर्वोपरी है।
प्राचीन हिंदी से अभिप्राय है— अपभ्रंश– अवहट्ट के बाद की भाषा।
हिंदी का आदिकाल हिंदी भाषा का शिशुकाल है। यह वह काल था, जब अपभ्रंश–अवहट्ट का प्रभाव हिंदी भाषा पर मौजूद था और हिंदी की बोलियों के निश्चित व स्पष्ट स्वरूप विकसित नहीं हुए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *