राष्ट्रीय आय और इससे सम्बन्धित अवधारणा(national income and related retention)

By | May 7, 2016

राष्ट्रीय आय(national income) :- एक वित्तीय वर्ष में(भारत में 1 अप्रैल से 31 मार्च) देश के घरेलु सीमा के अन्दर अर्थव्यवस्था द्वारा उत्पादित कुल अंतिम वस्तुओ और सेवाओं तथा विदेशो में देश के नागरिको द्वारा प्राप्त कुल वस्तुओं और सेवाओं के शुद्ध मूल्य का योग उस देश की राष्ट्रीय आय(national income) कहलाता है

सकल घरेलु उत्पाद(gross domestic product) :- किसी देश की सीमा के अंतर्गत एक वित्तीय वर्ष में उत्पादित समस्त वस्तुओं और सेवाओं तथा विदेशी कंपनी और व्यक्तियों द्वारा देश के अन्दर उत्पादित समस्त वस्तुओं और सेवाओं के शुद्ध मूल्य का योग सकल घरेलु उत्पाद कहलाता है

शुद्ध घरेलु उत्पाद(net domestic product) :- GDP में से पूँजी का उपयोग या घिसावट को घटने पर NDP प्राप्त होता है

NDP =GDP – घिसावट

सकल राष्ट्रीय उत्पाद(gross national product) :- किसी देश के नागरिको द्वारा एक वित्तीय वर्ष में उत्पादित कुल वस्तुओं और सेवाओं का मौद्रिक मूल्य GNP कहलाता है इसमें देशवासियों द्वारा देश से बहार उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं को भी सम्मिलित किया जाता है

Read Also-  इतिहास भाग 2

GNP = GDP + X + M

X – देशवासियों द्वारा विदेशो में अर्जित आय

M – विदेशियों द्वारा देश में अर्जित आय

शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद(net national product) :-

NNP = GNP – मूल्य घिसावट

*भारत में राष्ट्रीय आय कि गणना उत्पाद पद्धति तथा आय पद्धति द्वारा कि जाती है

प्रति व्यक्ति आय(per capita income) :-किसी वित्तीय वर्ष में किसी देश के लोगो द्वारा प्राप्त होने वाली औसत आय को प्रति व्यक्ति आय कहते हैं

प्रति व्यक्ति आय =राष्ट्रीय आय/जनसँख्या

चालू कीमतों पर राष्ट्रीय आय :- मौद्रिक राष्ट्रीय आय या चालू कीमतों पर राष्ट्रीय आय किसी भी देश के निवासियों द्वारा एक वर्ष में उत्पादित अंतिम वस्तुओं और सेवाओं के चालू मूल्यों का योग है

Read Also-  इतिहास भाग 1/ History part 1

स्थिर कीमतों पर राष्ट्रीय आय :- किसी एक विशेष वर्ष को आधार मानकर उस वर्ष के मूल्यों पर राष्ट्रीय आय की गणना अथिर कीमतों पर राष्ट्रीय कहलाती है

राष्ट्रीय आय मापने कि विधियां :-सर्वप्रथम दादा भाई नैरोजी ने 1867-68 के लिए राष्ट्रीय आय तथा प्रति व्यक्ति आय का अनुमान लगाया उनके अनुसार 1868 में भारत कि राष्ट्रीय आय 340 करोड़ रूपए तथा प्रति व्यक्ति आय 20 रूपए थी

1949 में प्रो. माहलनोविस की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आय समिति का गठन किया गया इसके अनुसार वर्ष 1951 में भारत कि राष्ट्रीय आय8710 करोड़ रूपए तथा प्रति व्यक्ति आय 225 रूपए थी इस समिधि के सुझाव पर केंद्रीय सांख्यिकी संगठन कि स्थापना हुई 1955 से केंद्रीय सांख्यिकी संगठन भारत में राष्ट्रीय आय कि गणना कर रहा है भारत में राष्ट्रीय आय की गणना आय विधि, उत्पाद या मूल्य विधि तथा व्यय के आधार पर कि जाती है